रविवार, 29 जून 2014

मधेपुरा जिला - एक संक्षिप्त परिचय

बिहार के कुल 38 जिलों में से एक मधेपुरा चारों तरफ से कुल 6 जिलों से घिरा है. इसके उत्तर में अररिया तथा सुपौल, दक्षिण में खगड़िया तथा भागलपुर, पूरब में पूर्णिया और पश्चिम में सहरसा जिलें हैं. जिले का कुल क्षेत्रफल 1788 वर्ग किलोमीटर है. 2 अनुमंडल (मधेपुरा और उदाकिशुनगंज) , 13 प्रखंड तथा 13 अंचल से बने इस जिले की कुल आबादी 2011 की जनगणना के अनुसार 19 लाख 94 हजार 618 है. जिला 25°. 34 से  26°.07' अक्षांश तथा 86° .19' से  87°.07' देशांतर पर अवस्थित है.
     9 मई 1981 को मधेपुरा एक जिला के रूप में सहरसा से अलग हुआ और मधेपुरा तथा उदाकिशुनगंज अनुमंडल को मिलाकर एक जिले का रूप इसे दिया गया. इससे पूर्व 1 अप्रैल 1954 को  सहरसा भागलपुर जिला से अलग होकर जिला बना था, वैसे मधेपुरा 3 सितम्बर 1945 से ही भागलपुर जिला के अंतर्गत सब-डिवीजन के रूप में था. वर्तमान मधेपुरा 09 मई 1845 को सब-डिवीजन (अनुमंडल) के रूप में अस्तित्व में आया. उस समय सहरसा जो आज जिला है, मधेपुरा का रेवन्यू सर्किल था. जब सहरसा 01 अप्रैल 1954 को जिला बना तो मधेपुरा सहरसा जिले के अंतर्गत एक अनुमंडल था. 09 मई 1981 को मधेपुरा जिला बना तो उस समय मधेपुरा जिला के अंतर्गत सात ही प्रखंड थे.
         इस जिले की भौगोलिक स्थिति 25°. 34 - 26°.07’ उत्तरी अक्षांश तथा 86° .19’ से 87°.07’ पूर्वी देशान्तर के बीच है.